Sunday, November 28, 2021
- विज्ञापन -spot_img
Homeआर्थिकदेश की GDP में अच्छे ग्रोथ का अनुमान,चालू वित्त वर्ष में रह...

देश की GDP में अच्छे ग्रोथ का अनुमान,चालू वित्त वर्ष में रह सकता है 9.5फीसदी का आर्थिक वृद्धि दर

विमर्श(नई दिल्ली) भारत की आर्थिक वृद्धि दर आने वाली तिमाहियों में मजबूत रहने की संभावना है। हालांकि, खाद्य वस्तुओं के दाम में तेजी के साथ मुद्रास्फीति ऊंची रह सकती है। ये जानकारी साख निर्धारण एजेंसी एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स ने बुधवार को दी है। एजेंसी के अनुसार चालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 9.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है, जबकि अगले वित्त वर्ष 2022-23 में यह 7 प्रतिशत रह सकती है। आने वाले समय में राजकोषीय मजबूती सुनश्चित करने के लिए बाजार मूल्य पर ऊंची जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर महत्वपूर्ण होगी।

एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स के निदेशक एंड्रयू वूड ने कहा कि भारत के राजकोषीय घाटे की कमजोर स्थिति और जीडीपी के मुकाबले कर्ज 90 प्रतिशत के करीब पहुंचने को देखते हुए राजकोषीय स्थिति में और गिरावट को रोकने और इसे कुछ हद तक सुदृढ़ करने के लिए बाजार मूल्य पर जीडीपी वृद्धि दर महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि राजकोषीय घाटा अगले दो साल तक ऊंचा बना रहेगा लेकिन जीडीपी अनुपात स्थिर होने का अनुमान है।

एंड्रयू वूड ने कहा कि भारत की बाह्य स्थिति काफी मजबूत है और इस तथ्य के बावजूद कि राजकोषीय स्थिति बिगड़ी है, देश की सरकारी साख के लिहाज से यह काफी मददगार है। महामारी की दूसरी लहर आर्थिक गतिविधियों के लिहाज से अच्छी नहीं रही। परिवार प्रभावित हुए हैं। परिवार अपनी जमा-पूंजी को दुरूस्त करने पर ध्यान देंगे और खर्च पर लगाम लगाएंगे। इसका मतलब है कि आर्थिक पुनरूद्धार के साथ गतिविधियां इसके अनुरूप नहीं होंगी।

देश की आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में पिछले साल की इसी अवधि में तुलनात्मक आधार कमजोर होने से 20.1 प्रतिशत रही है। इससे पिछली तिमाही जनवरी से मार्च 2021 में वृद्धि दर 1.6 प्रतिशत रही थी। भारतीय रिजर्व बैंक को महंगाई दर 2 प्रतिशत घट-बढ़ के साथ 4 प्रतिशत के स्तर पर रखने की जिम्मेदारी मिली हुई है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -spot_img

मोस्ट पॉपुलर

रीसेंट कॉमेंट