Monday, November 29, 2021
- विज्ञापन -spot_img
Homeताजा खबरबन गया मलेरिया का टीका: WHO ने दी मलेरिया के टीके को...

बन गया मलेरिया का टीका: WHO ने दी मलेरिया के टीके को मंजूरी,अफ्रीकी देशों में पहले लगेगा टीका।

विमर्श( न्यूज डेस्क) वैज्ञानिकों ने मलेरिया पर नियंत्रण का रस्ता खोज लिया है। अब दुनिया में मलेरिया के पहले टीके RTS,S/AS01 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंजूरी दे दी है।

वैसे तो भरत में हर साल तीन लाख से ज्यादा केस मलेरिया के मिलते हैं लेकिन मलेरिया से सबसे ज्यादा प्रभावित अफ्रीकी देश हैं। WHO मिली जानकारी के अनुसार मलेरिया के लिए टीकाकरण अभियान सबसे पहले अफ्रीकी देशों से होगी। दुनिया के हर जरूरत मंद देशों तक मलेरिया का टीका मपुंच सके इसके लिए WHO का फोकस वैक्सीन बनाने के लिए फंडिंग के इंतजामों पर होगा।

मलेरिया का वैक्सीन आने से भारत को बड़ी राहत
बताते चलें कि छोटे बच्चों यानी पांच साल तक के बच्चे मलेरिया से सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। दुनियाभर में हर दो मिनट में एक बच्चे की मलेरिया से मौत हो जाती है। 2019 में दुनियाभर में मलेरिया से 4.09 लाख मौतें हुई थीं, इनमें 67% यानी 2.74 वे बच्चे थे, जिनकी उम्र 5 साल से कम थी। भारत में 2019 में मलेरिया के 3 लाख 38 हजार 494 केस आए थे और 77 लोगों की मौत हुई थी। 2015 से 2019 तक भारत में मलेरिया से सबसे ज्यादा 384 मौतें 2015 में हुई थीं। इसके बाद से मौतों का आकंड़ा लगातार कम हुआ है।

गौरतलब है कि मलेरिया की वैक्सीन RTS,S/AS01 का इस्तेमाल 2019 में घाना, केन्या और मालावी में पायलट प्रोग्राम के तौर पर शुरू किया गया था। इसके तहत 23 लाख बच्चों को वैक्सीन दी गई थी, इसके नतीजों के आधार पर ही WHO ने अब वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। इस वैक्सीन को पहली बार 1987 में GSK कंपनी ने बनाया था।


सुरक्षित है मलेरिया का वैक्सीन
पायलट प्रोजेक्ट के नतीजों के मुताबिक मलेरिया का वैक्सीन सुरक्षित है और इससे 30% गंभीर मामले रोके जा सकते हैं। यह भी सामने आया है कि मलेरिया की वैक्सीन से दूसरे टीकों या मलेरिया रोकने के दूसरे उपायों पर कोई निगेटिव असर नहीं होता।मच्छरों से पैलने वाली इस बीमारी के लिए वैक्सीन बनाने के क्रम में वैसे बच्चों पर ट्रायल किया गया जिनके पास मच्छरदानी नहीं थे। WHO के अनुसार अफ्रीकी देशों के बच्चों को दो साल की उम्र तक मलेरिया वैक्सीन के चार डोज दिए जाएंगे।


मलेरिया के सबसे ज्यादा पीड़ित बच्चे नाइजिरिया में
बताते चलें कि मच्छरों से फैलने वाली बीमारी मलेरिया की वजह से दुनियाभर में हर साल 4.09 लाख मौतें हो जाती हैं, इनमें ज्यादातर अफ्रीकी देशों के बच्चे होते हैं। दुनियाभर में मलेरिया से जितनी मौतें होती हैं, उनमें से आधी 6 उप-सहारा अफ्रीकी देशों में होती हैं। इनमें भी एक चौथाई मामले नाइजीरिया के होते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -spot_img

मोस्ट पॉपुलर

रीसेंट कॉमेंट