Sunday, November 28, 2021
- विज्ञापन -spot_img
Homeअपराधबांग्लादेशःहिंदुओं के खिलाफ हिंसा लगातार जारी, सोमवार को 70 से ज्यादा हिन्दुओं...

बांग्लादेशःहिंदुओं के खिलाफ हिंसा लगातार जारी, सोमवार को 70 से ज्यादा हिन्दुओं के घर जलाए गए, UN ने की निंदा

बांग्लादेश में हिन्दुओं के खिलाफ भड़ी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। बांग्लादेश से फिर एक हमले की खबर आई है , जिसमें बांग्लादेश में हिंदुओं के गांव पर हमला करके 20 घरों को जलाकर खाक कर दिया गया। सुरक्षा बलों तथा फायर ब्रिगेड ने हालाकि 46 घरों को बचा लिया वहां थोड़ी कम क्षति हुई।

उधर ताजा खबर यह है कि बांग्लादेश में हिंदूओं के खिलाफ हो रही हिंसा की संयुक्त राष्ट्र ने निंदा की है. संयुक्त राष्ट्र ने कहा, बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं पर हमले उसके संविधान में निहित मूल्यों के खिलाफ हैं. प्रधानमंत्री शेख हसीना की सरकार को घटनाओं की निष्पक्ष जांच करानी चाहिए।

बांग्लादेश में संयुक्त राष्ट्र के रेजिडेंट कोऑर्डिनेटर मिया सेप्पो ने कहा है कि सोशल मीडिया पर हेट स्पीच की वजह से बांग्लादेश में हिंदुओं पर हुए हालिया हमले संविधान के मूल्यों के खिलाफ हैं और इसे रोकने की जरूरत है. हम सरकार से अल्पसंख्यकों की सुरक्षा और निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने का गुजारिश करते हैं. उधर अमेरिका ने भी बांग्लादेश में हिन्दु अल्पसंख्यकों के खिलाफ हो रही हिंसा की निंदा की है।

दरअसल बांग्लादेश में अगले वर्ष चुनाव होने हैं, और वहां आवामी लीग का शासन सांप्रदायिक उन्मादों के खिलाफ ज्यादा सख्त है। नागरिकों के बीच में भी सांप्रदायिक सौहार्द के लिए काम करने वाले लोग बांग्लादेश मे काफी मुखर हैं।

बांग्लादेश में हिंदू दशहरे के समय हुए सांप्रदायिक हमलों के खिलाफ प्रोटेस्ट पर हैं और जगह जगह पर उपवास कर रहे हैं, या कैंडल मार्च निकाल रहे हैं। बांग्लादेश के रंगपुर जिले के पीरगंज नाम के गांव में लगभग सौ लोगों ने हिंदू बस्ती पर हमला किया। पुलिस मुस्तैद हो गई और जान माल की ज्यादा क्षति नहीं हो सकी। पुलिस अधीक्षक मोहम्मद कमरुज्जमा ने बताया कि फेसबुक के द्वारा एक भ्रम फैलाया गया कि वहां किसी ने मुस्लिम धर्म का अपमान किया है । इस अफवाह के मद्देनजर पुलिस बल इस गांव में पहुंच गई। यह घटना रविवार को दस बजे रात के बाद घटी है। इस घटनाक्रम के दोषी 52 संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

उल्लेखनीय है कि शेख हसीना ने पहली बार यह कहा है कि भारत में भी सांप्रदायिक सौहार्द्र पर ध्यान दिया जाना चाहिए क्योंकि भारत की घटनाओं में अल्पसंख्यकों के ऊपर जो बुरा हो रहा है, उसका भी बांग्लादेश के ऊपर असर पड़ रहा है।

बांग्लादेश पर गौर करने वाले भारतीय पर्यवेक्षक अरशद अजमल ने इस मौके पर बताया कि शेख हसीना ने अब तक अपने देश के सांप्रदायिक सद्भाव के लिए शासन के स्तर पर अच्छी तरह काम किया था , परंतु पहली बार वह अपनी भूमिका से शिफ्ट करती हैं और यह कहती है कि भारत की परिस्थितियों की प्रतिक्रिया बांग्लादेश में हो रही है। इस तरह वह अपनी जिम्मेदारियों से थोड़ा पीछे हट रही नजर आ रही हैं।

बताते चलें कि बांग्लादेश में हिंदू बुद्धिस्ट ईसाई यूनिटी नाम का फोरम काम करता है ,इस फोरम का दावा है कि इस बार दशहरा पूजा के दौरान 70 पूजा पंडालों पर आक्रमण किए गए। चंद्रपुर और नवाखाली में चार हिंदू पूजारी हमले के शिकार हुए हैं। बांग्लादेश के बीडीन्यूज़ 24 डॉट कॉम ने दक्षिणपंथी आईन ओ सलीश केंद्र के हवाले से बताया है , कि सन 2013 से अब तक बांग्लादेश में इस तरह के 3,669 हमले हो चुके हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- विज्ञापन -spot_img

मोस्ट पॉपुलर

रीसेंट कॉमेंट